Sukanya Samriddhi Yojana in Hindi: मात्र 250 ₹ से खोले खाता

Sukanya Samriddhi Yojana

Sukanya Samriddhi Yojana

“बेटी बचाओ बेटी पढाओ” के तहत भारत सरकार ने 22 जनवरी 2015 को Sukanya Samriddhi Yojana (एसएसवाई) की सुरुआत की, जिसे सुकन्या समृद्धि योजना के नाम से भी जाना जाता है। यह भारत सरकार द्वारा शुरू की गई एक छोटी सी बचत योजना है जो लोगों को इससे अपने बेटियों के लिए धन बचाने के लिए प्रोत्साहित करती है। बालिकाओं की उच्च शिक्षा और शादी के खर्च के लिए, कम उम्र से ही उस बालिका के 10 वर्ष की आयु प्राप्त करने तक उसके माता-पिता या कानूनी अभिभावक द्वारा डाकघर या वाणिज्यिक बैंक की अधिकृत शाखाओं में खाता खोला जा सकता है।

सुकन्या समृद्धि योजना की कुछ विशेषताए

न्यूनतम/अधिकतम निवेश

पहली बार एक व्यक्ति को न्यूनतम राशि 250 रुपये जमा करना होगा। योजना के तहत प्रति वर्ष 1,000 रूपए । एक व्यक्ति 100 के रुपये के गुणकों में कितनी भी बार निवेश कर सकता है। हालांकि, एक वर्ष में अधिकतम योगदान 1.5 लाख रुपये से अधिक नहीं होना चाहिए। अगर आप ने न्यूनतम जमा राशि 250 रूपए से कम किया तो आपको 50 रूपये का जुर्माना लग जायेगा।

समय से पहले निकासी

उच्च शिक्षा के उद्देश्य से खाते की शेष राशि के 50% तक की आंशिक निकासी की अनुमति है, यदि आपकी बालिका ने 18 वर्ष की आयु प्राप्त कर ली है या 10 वीं कक्षा पास कर ली है तो।

समय से पहले बंद होना

खाते को समय से पहले यानी 21 साल की उम्र से पहले बंद करने की अनुमति केवल तभी दी जाती है जब लड़की की शादी पूर्ण अवधि से पहले हो जाती है। हालांकि, भारत में एक बालिका के विवाह के लिए निर्धारित न्यूनतम आयु 18 वर्ष है।

नामांकन सुविधा

Sukanya Samriddhi Yojana में नामांकन की सुविधा नहीं है। यदि बालिका की मृत्यु हो जाती है, तो खाता तुरंत बंद कर दिया जाएगा और शेष राशि का भुगतान खाताधारक के अभिभावक को कर दिया जाएगा।

अधिकतम दो लड़कियों के लिए खोला जा सकता है

बालिका के माता-पिता या अभिभावक को प्रत्येक बच्चे के लिए एक खाता खोलने की अनुमति है। हालांकि, एक ही परिवार की अधिकतम दो लड़कियों के लिए खाता खोला जा सकता है। जन्म लेने वाली तीसरी लड़की सुकन्या समृद्धि योजना का लाभ नहीं ले सकेगी है।

जमा की अवधि और योजना

खाता खोलने की तारीख से 15 साल पूरे होने तक माता-पिता या अभिभावक को योजना के लिए योगदान देना होगा। जबकि योजना की पूर्ण अवधि 21 वर्ष है।

उदाहरण के लिए, यदि किसी व्यक्ति ने Sukanya Samriddhi Yojana खाते में निवेश करना शुरू कर दिया है जब उसकी बेटी की उम्र 7 वर्ष थी, तो उसे 22 वर्ष (7 वर्ष + 15 वर्ष) की आयु प्राप्त करने तक खाते में योगदान देना होगा। 28 साल (7+21) तक पहुंचने पर अकाउंट पूर्ण हो जाता है। हालांकि, अगर 28 साल की उम्र से पहले उसकी शादी हो जाती है तो खाता पहले ही बंद कर दिया जाएगा।

योजना एनआरआई बालिकाओं के लिए नहीं है

एक एनआरआई बालिका को सुकन्या समृद्धि योजना में निवेश करने की अनुमति नहीं है। एक बालिका Sukanya Samriddhi Yojana के लिए तभी पात्र होगी जब वह एक भारतीय निवासी हो। खाता खोलने के समय खाते की परिपक्वता तक एक बालिका को भारत में रहना होता है। यदि कोई बालिका योजना की अवधि के दौरान आवासीय स्थिति में परिवर्तन करती है तो खाता तुरंत बंद कर दिया जाता है।

Sukanya Samriddhi Yojana interest rate

Sukanya Samriddhi Yojana पर ब्याज की दर तय नहीं है और हर विभिन्य वर्ष में बदलती रहेगी। योजना की ब्याज दर सरकार के 10 साल के बॉन्ड यील्ड से जुड़ी हुई है। आम तौर पर, Sukanya Samriddhi Yojana स्कीम 10 साल के सरकारी बॉन्ड यील्ड से 50 बेसिस प्वाइंट ज्यादा देती है। एसएसवाई पर अर्जित वर्तमान ब्याज दर 8.6% प्रति वर्ष (वित्त वर्ष 2016-2017), 9.2% प्रति वर्ष (वित्त वर्ष 2015-16), 9.1% प्रति वर्ष (वित्त वर्ष 2014-2015) है।

खाता के पुर्ण होने के बाद अर्जित कोई ब्याज नहीं

खाता खोलने की तारीख से 21 वर्ष की पूर्ण अवधि पूरी करने के बाद कोई ब्याज अर्जित नहीं किया जाएगा।

कराधान (Taxation)

आयकर अधिनियम की धारा 80सी के तहत एक व्यक्ति एसएसवाई में निवेश पर 1.5 लाख तक का कर लाभ प्राप्त कर सकता है। इसके अलावा, इस योजना के तहत अर्जित ब्याज और पूर्ण राशि को कर से छूट दी गई है।

Sukanya Samriddhi Yojana Eligibility

Sukanya Samriddhi Yojana के तहत खता खुलवाने के लिए आप की बेटी का उम्र 10 साल से कम होना चाहिए। अभिभावक अपने केवल किन्ही दो बेटियों का ही नामांकन करा सकते है। एक बेटी के लिए एक ही खाता खोला जायेगा खता खुलवाने के लिए आप भारत के ही निवासी होने चाहिए। NRI बलिको के लिए ये सुविधा नहीं हैं। खता खुलवाने के लिए कुछ जरुरी दस्तावेज जैसे की जन्म प्रमाण पत्र, पहचान पत्र, निवास प्रमाण पत्र लगेगा।

Sukanya Samriddhi Yojana benefits

Sukanya Samriddhi Yojana से लाभ आप की बेटी तब होता है जब वह उच्च शिक्षा के लिए (10 वी पास के बाद ) या फिर जब उसकी सादी होने वाली हो तब मिलता हैं अगर यह पैसा आप पढ़ने के लिए निकल रहे है तो आप केवल 50 % ही निकल पाएंगे बाकि का पैसा आप उसके सादी के लिए बाद में निकल सकेंगे हलाकि एक साल में जो राशि है वो केवल 1.5 लाख तक ही जमा की जा सकती है

इसे भी पढ़े :- UP Free Laptop Yojana 2021, Registration, Last Date

Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published.